SHIVAAR

Liberal Altrnatives

SHIVAAR

हो गई है पीर पर्वत सी -दुष्यंत कुमार

देशात सत्तरी नंतर झालेल्या सर्व आंदोलनात, चळवळीत ही कविता समूहाने गायली गेली आहे.

काल परवाच्या अण्णा-केजरीवाल यांच्या आंदोलनातही तरुणांच्या तोंडी ही कविता होती.

मनोज बाजपेई याच्या आवाजात इथे ऐका.mb

 

 

हो गई है पीर पर्वत-सी

दुष्यंत कुमार

हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए,
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए।

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी,
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए।

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में,
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए।

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं,
सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए।

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही,
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *